Punarjanmm

''बहुत हुई यह शल्यचिकित्सा कटे हुए अंगों की,
कब तक यूँ तस्वीर संवारें बदरंगी रंगों की.
बीत गया संवाद-समय, अब करना होगा कर्म;
नए समय की नयी जरूरत है ये पुनर्जन्म''
अब समय मात्र संवाद का नहीं रहा.. समय परिवर्तन का है, परिणामोत्पादक
प्रक्रिया का है, परिणाम का है, पुनर्जन्म का है..
'पुनर्जन्म' हर मर चुकी व्यवस्था का, समाज की शेष हो चुकी रूढ़ियों का,
बजबजाती राजनीति का..
बहुत से शेष प्रश्नों को सामने रखने और उन्हें एक तार्किक परिणति तक
पहुँचाने का एक प्रयास...


Visit and enjoy the site Punarjanmm, belonging to category Society

in
punarjanmm.blogspot.com
0.0/5 for 0 rate
0
06-10-2010

Related sites Punarjanmm

Indian Political Magazine
Vote India an Indian elections portal offers...
DREAMS
Its my personnel views about social issues
सुज्ञ सन्देश
सुज्ञ सन्देश
Jidhu's Reflection
Its my reflection
Jigyasa
Current Affairs, Media and tit-bits
 
Powered by Blogerzoom © 2009 - 2015    Generated in 0.048 Queries: 7    Contact    Newsletter | BigSEOTraffic |